ज्‍योतिष
Trending

चारधाम यात्रा से उत्तराखंड में लौटी रौनक:मार्ग में लगे जयघोष; पहले ही दिन 1276 भक्तों ने दर्शन किए, सिखों के पवित्र धार्मिक स्थल हेमकुंड साहिब की भी यात्रा शुरू

उत्तराखंड में चारधाम यात्रा और सिखों के पवित्र धार्मिक स्थल हेमकुंड साहिब की यात्रा शुरू हो गई। इससे चारों धामों में रौनक लौट आई है। शनिवार को यात्रा के पहले दिन सुबह से ही बाजार सज गए थे। होटल, स्टे होम और अन्य प्रतिष्ठान भी खुल गए थे। लंबे इंतजार के बाद चारों धामों के मार्ग जयघोष से गूंज रहे थे। चारधाम यात्रा को लेकर लोगों में खासा उत्साह है। पहले दिन चारों धामों में 1276 श्रद्धालुओं ने दर्शन किए। हालांकि, कोविड गाइडलाइन का पालन करते हुए देवस्थानम बोर्ड ने गर्भगृह में प्रवेश की अनुमति नहीं दी।

सभी को मंडप से ही दर्शन करके लौटना होगा। मालूम हो कि बुधवार को नैनीताल हाईकोर्ट ने उत्तराखंड सरकार के शपथपत्र पर सुनवाई करते हुए यात्रा शुरू करने के आदेश दिए थे। इसके बाद शनिवार से स्थानीय लोगों ने अपने प्रतिष्ठान खोल दिए। इससे चारों धाम गुलजार हो उठा है। गुप्तकाशी, सोनप्रयाग, गौरीकुंड और केदारनाथ में यात्रियों की चहलकदमी सुबह 9 बजे ही शुरू हो गई थी। वहीं, बद्रीनाथ और जोशीमठ में भी दोपहर तक श्रद्धालु पहुंचने लगे थे।

गंगोत्री और यमुनोत्री में पहले दिन 100 से कम यात्री पहुंचे। हालांकि, देशभर से करीब 19,500 यात्रियों ने चारधाम यात्रा के लिए आवेदन किया है। इनके सोमवार से धामों में पहुंचने की उम्मीद है। सबसे ज्यादा उत्साह श्रद्धालुओं में केदारनाथ को लेकर है। वहीं, गंगोत्री धाम पहुंच रहे श्रद्धालुओं में काफी उत्साह है। यहां लोगों ने कोविड नियमों का पालन करते हुए मां गंगा की विशेष पूजा अर्चना की। साथ ही देश में खुशहाली और बेहतर स्वास्थ्य की कामना की।

केदारनाथ धाम के लिए सर्वाधिक 10 हजार ई-पास जारी हुए
बोर्ड के मुताबिक, शनिवार को चारों धाम के लिए 19,491 ई-पास जारी किए गए। यमुनोत्री धाम के लिए 2276, गंगोत्री धाम के लिए 2375, बद्रीनाथ धाम के लिए 4830 और सर्वाधिक 10,010 ई-पास केदारनाथ धाम के लिए जारी हुए हैं। गंगोत्री मंदिर समिति के सह सचिव राजेश सेमवार ने खुशी जाहिर करते हुए कहा- ‘आने वाले दिनों में भक्तों की संख्या और बढ़ेगी। इससे चारों धाम के कारोबार के पटरी पर लौटने की उम्मीद है।’

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button